केईएम अस्पताल में ५ करोड़ २३ लाख ९६ रुपये के घोटाले,मामले में राजन राउल अकाउंटेंट गिरफ्तार,श्रीपद देसाई फरार !

मुंबई : एक तरफ जहां मुंबई सहित कई राज्य कोरोना जैसी खतरनाक बीमारी से लड़ रहे है,वहीं दूसरी तरफ इस महामारी के दौरान कई जगहों पर करोड़ों रुपये की हेराफेरी का मामला सामने आ रहा है। मुंबई के केईएम अस्पताल और मेडिकल कॉलेज से करोड़ों रुपये गबन किया गया है। इस घोटाले के सिलसिले में भोईवाड़ा पुलिस ने एक अकाउंटेंट राजन राउल को गिरफ्तार किया है, जबकि दूसरा साथी श्रीपद देसाई फरार है जिसकी तलाश की जा रही है। पुलिस के मुताबिक,इन पर केईएम अस्पताल के खातों से ५ करोड़ की राशि निकालने का आरोप है।

केईएम हॉस्पिटल एंड कॉलेज में ५ करोड़ २३ लाख ९६  रुपये का घोटाला हुआ है। इसमें दो लोगों का नाम सामने आया है १) अकाउंटेंट राजन राउल २) श्रीपद देसाई सामने! दोनों आरोपी संगठन के पूर्व डीन डॉक्टर अविनाश सुपे और डॉक्टर निर्मला रेगे की जाली हस्ताक्षर करते थे और इसके बाद अस्पताल प्रशासन के खाते से कंपनी के नाम पर पैसा ट्रांसफर कर दिया जाता था। जांच में पता चला है कि इन्होंने न सिर्फ कंपनी बल्कि दूसरे खातों में भी पैसे डायवर्ट किए है। यह घोटाला सेठ गोवर्धन सुंदरदास मेडिकल कॉलेज और केईएम अस्पताल के खातों में हुआ है। केईएम के अधीक्षक हेमंत देशमुख ने भोईवाड़ा पुलिस स्टेशन में शिकायत की थी और पुलिस ने आईपीसी की धारा ४०८,४२०,४६५,४६७,४६८,४७१,४७७,(अ )और ३४ के तहत हॉस्पिटल अकाउंटेंट राजन राउल और श्रीपद देसाई के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

संगठन के अध्यक्ष और केईएम अस्पताल के अधीक्षक डॉ. हेमंत देशमुख ने बताया कि केईएम अस्पताल के ६०  साल पूरे होने के अवसर पर,तत्कालीन संकाय-शिक्षकों और पूर्व छात्रों की पहल से १९९१ के आसपास डायमंड जुबली सोसाइटी ट्रस्ट नामक एक स्वायत्त संगठन की स्थापना की गई थी। यह स्वायत्त निकाय मुख्य रूप से चिकित्सा अनुसंधान और सहायक कार्य करता है।साथ ही संस्थान पूरी तरह से स्वायत्त है और बीएमसी या केईएम अस्पताल के अधिकार क्षेत्र में नहीं है।  पुलिस की जांच में सामने आया है कि पिछले ११ साल से यह घोटाला किया जा रहा है और अभी तक ५ करोड़ २३  लाख ९६ हजार रूपए का गबन किया गया है,अभी तक पुलिस ने राजन राउल को गिरफ्तार किया है, जबकि दूसरा श्रीपद देसाई फरार है जिसकी तलाश की जा रही है।