'तौकटे' नाम का ये तूफान मचा सकता है भारी तबाही २०२१ के पहले चक्रवाद को लेकर अलर्ट जारी

कोरोना से मची महामारी के बीच एक और आफत देश का इंतजार कर रही है। मौसम विज्ञान विभाग द्वारा अगले कुछ दिनों में अरब सागर में चक्रवात का पूर्वानुमान जताया गया है। संभावना है कि यह चक्रवाती तूफान १७  और १८ मई को गुजरात में तबाही मचा सकता है।इसके बन जाने के बाद चक्रवात का नाम 'तौकते' रखा जाएगा, जिसका अर्थ है अत्यधिक आवाज वाली छिपकली, जो कि म्यांमार की ओर दिया गया नाम है

वहीं मौसम विभाग की भविष्यवाणी के बाद गुजरात के मुख्मयंत्री विजय रूपाणी ने एक बैठक कर तटीय जिलों के अधिकारियों को चौकस रहने एवं जरूरी उपाय करने का निर्देश दिया। अधिकारियों का अनुमान है कि पूर्व-मध्य अरब सागर में चक्रवात उत्पन्न होने से सौराष्ट्र और दक्षिणी क्षेत्र समेत गुजरात के तटीय भागों में गरज के साथ बौछारें पड़ सकती हैं।लोगों की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए गए है हालांकि इस बात की तत्काल कोई चेतावनी नहीं है कि चक्रवात , यदि उत्पन्न होता है, तो गुजरात पर असर डालेगा। गृह राज्यमंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने कहा कि संभावित चक्रवात, जिसका नाम तौकटे चक्रवात रखा गया है, के मद्देनजर मुख्यमंत्री ने अधिकरियों को जरूरी निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि ऐसा अनुमान है कि यदि चक्रवात उत्पन्न होता है तो वह गुजरात के सौराष्ट्र एवं कच्छ क्षेत्र को प्रभावित करेगा, ऐसे में मुख्यमंत्री ने प्रशासन को लोगों की सुरक्षा के लिए सभी जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया है।

१६ मई को आ सकता है चक्रवात : राज्य के राजस्व विभाग ने भी सभी संबंधित जिलाधिकारियों को कोविड-१९ नियमों के अनुसार कदम उठाने का निर्देश दिया है।मुख्यमंत्री ने तटीय जिलों के अधिकारियों को मौसम विज्ञान विभाग के अनुमान के मद्देनजर चौकस रहने को कहा है। मौसम विज्ञान विभाग ने कहा कि १४  मई की सुबह को दक्षिण-पूर्व अरब सागर में निम्न दबाव का क्षेत्र बन सकता है और उसके दक्षिण पूर्व अरब सागर में उत्तरी -उत्तरी पश्चिमी दिशा में एवं लक्षद्वीप की ओर बढ़ने की संभावना है । उसके अनुसार १६ मई को पूर्व-मध्य अरब सागर में चक्रवात आ सकता है।