गडकरी-फडणवीस के गढ़ में कांग्रेस से हारी बीजेपी

मुंबई : विधानसभा चुनाव के बाद हुए महाराष्ट्र की छह जिला परिषदों के चुनाव में बीजेपी को अपने गढ़ नागपुर में बड़ी हार का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस ने बीजेपी से नागपुर जिला परिषद छीन ली है। इस हार से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, विधानसभा में नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस और पूर्व मंत्री चंद्रकांत बावनकुले की प्रतिष्ठा को धक्का लगा है। नितिन गडकरी के मूल गांव धापेवाडा से कांग्रेस के उम्मीदवार महेंद्र डोंगरे चुनाव जीते हैं, वहीं बावनकुले के गांव कोराडी से भी कांग्रेस के उम्मीदवार नाना कंभाले विजयी हुए हैं। नागपुर जिला परिषद की कुल 58 सीटों में से कांग्रेस ने अकेले 30 सीट जीत लीं हैं, वहीं बीजेपी को सिर्फ 15 सीटें मिली हैं।
नागपुर के अलावा पालघर जिला परिषद में भी बीजेपी को शिवसेना के हाथों शिकस्त खानी पड़ी है। पालघर जिला परिषद के चुनाव में बीजेपी नंबर तीन पर चली गई है। शिवसेना 18 सीटें जीतकर नंबर एक पर है, वहीं एनसीपी 14 सीटें जीतकर दूसरे नंबर पर है। बीजेपी को 12 सीटें मिली हैं। उत्तर महाराष्ट्र की धुले जिला परिषद में बीजेपी को बहुमत मिला है। यहां की कुल 54 सीटों में से बीजेपी ने 39 सीटों पर जीत हासिल की है। धुले पूर्व मंत्री जय कुमार रावल का क्षेत्र है और इस जीत का श्रेय भी उनके खाते में गया है।
नतीजों पर प्रतिक्रिया देते हुए एनसीपी प्रदेश अध्यक्ष और जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल ने कहा, 'विदर्भ के नागपुर से बीजेपी के पराभव की शुरुआत हो चुकी है। महा विकास अघाड़ी ने निर्विवाद रूप से वर्चस्व स्थापित किया है। नागपुर के लोगों ने देवेंद्र फडणवीस और बीजेपी के खिलाफ अपनी नाराजगी व्यक्त की है, यह संदेश पूरे महाराष्ट्र में जाएगा।