बारिश को लेकर सरकार अलर्ट, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अधिकारियों को दिया निर्देश

मुंबई : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मानसून के दौरान बेहतर समन्वय स्थापित कर काम करने का निर्देश अधिकारियों को दिया है. जिससे राज्य की जनता को परेशानियों का सामना न करना पड़े. उन्होंने मंगलवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये आपदा व्यवस्थापन विभाग की तरफ से की गयी मानसून पूर्व तैयारियों की समीक्षा की. मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि कोविड-19 का मुकाबला करते हुए हमें आने वाले मानसून के दौरान संभावित मुश्किलों का भी सामना करना है. जिसके लिए सभी यंत्रणाओं के बीच बेहतर समन्वय स्थापित कर के काम करना है.बारिश में संक्रामक बीमारी न फैले इसके लिए अभी से ही नियोजन करना होगा. वीडियो कांफ्रेंसिंग में उपमुख्यमंत्री अजित पवार, आपदा व्यवस्थापन मंत्री विजय वडेट्टीवार, राज्यमंत्री प्राजक्त तनपुरे, मुख्य सचिव अजोय मेहता, सभी विभागीय आयुक्त, रेलवे, नेवी, सेना, एयरफोर्स, तटरक्षक दल, मौसम विभाग के अधिकारी,मुंबई मनपा आयुक्त व  अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि अब मौसम की भविष्यवाणी करने वाले किसी भोलानाथ की आवश्यकता नहीं है.अब तकनीक बहुत विकसित है इसके बावजूद बारिश का सटीक अनुमान गलत हो जाता है. अचानक कम दबाव का पट्टा बनता है और बारिश शुरु हो जाती है.कई बार बदल फट जाता है. इसलिए शतत मौसम विभाग के संपर्क में रह कर काम करने की जरूरत है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिस तरह हवाई जहाज के उड़ान के समय मौसम के विषय में पूरी तहकीकात की जाती है उसी तरह का नियोजन रेल परिचालन में भी करना चाहिए. उन्होंने कहा कि पिछले साल महालक्ष्मी एक्सप्रेस ट्रेन बदलापुर में पानी में फंस गई थी.  

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष की तरह सांगली-कोल्हापुर में लोगों को बाढ़ की वजह से मुश्किलों का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए अभी से नियोजन करने की जरूरत है. अलमट्टी बांध से पानी छोड़ने बाबत विभाग से समन्वय की जरुरत है. भारतीय मौसम विभाग के उप महानिदेशक के एल होसालीकर ने इस अवसर पर प्रजेंटेशन कर बताया कि इस बार राज्य में बारिश सामान्य या उससे अधिक होगी. 1 या 2 जून को राज्य के सभी हिस्सों में मानसून बारिश हो सकती है. अल नीनो का प्रभाव नहीं पड़ेगा. विदर्भ में सामान्य से कम बारिश की संभावना है. किसानों के लिए मेघदूत मोबाइल एप है तो उमंग मोबाइल एप पर भी रिअल टाइम जानकारी मिल सकेगी.

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि वर्ष 2005 की बाढ़ के बाद से हम अधिक ध्यान पूर्वक काम करने लगे हैं. नालासफाई, उसका चौड़ीकरण, समय से पानी की निकासी महत्वपूर्ण है. पंपिंग स्टेशन सही ढंग से चलना चाहिए. पानी की निकासी करने वाली पाइप लाइन खुली है इसको देखना चाहिए. शहर हो या  ग्रामीण क्षेत्र किसी भी परिस्थिति में सड़कों पर गड्ढा नहीं होना चाहिए.यदि गड्ढा हो गया तो उसे तुरंत भरना चाहिए. उन्होंने कहा कि अंधेरी स्थित शहाजीराजे स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में कोविड के लिए क्वारंटाइन की सुविधा उपलब्ध कराई गई है. एनडीआरएफ को पर्यायी जगह तुरंत उपलब्ध कराने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया. उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर पूर्व सैनिकों को शामिल करने से सेना एवं प्रशासन में बेहतर समन्वय स्थापित होगा.