धारावी : 2 दिन से घटे कोरोना मरीज, रोज हो रही 15000 स्क्रीनिंग

मुंबई : मुंबई का हॉट स्पाट बन चुके धारावी में पिछले दो दिन से कोरोना मरीजों की संख्या में कमी आने लगी है. 8 लाख की जनसंख्या वाले धारावी में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या ने बीएमसी को परेशानी में डाल दिया है. जगह की कमी के कारण वहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना सबसे मुश्किल कार्य था. लेकिन धारावी में कोरोना का भय वहां के प्रवासी मजदूरों में इतना फैला कि जल्द से जल्द धारावी छोड़ने को लोगों उतावले थे.

एक अनुमान के मुताबिक अकेले धारावी से ही 2 से ढ़ाई लाख लोगों ने पलायन किया है. वहां प्रतिदिन कोरोना मरीजों की तलाश भी संक्रमितों की संख्या बढ़ने का कारण बताया जा रहा है. धारावी में बनाये गए फीवर क्लीनिक और घर-घर लगभग 15000  लोगों की स्क्रीनिंग की जा रही है.  एशिया की सबसे बड़ी झोपड़पट्टी धारावी में कोरोना मरीजों की संख्या 1621 है जो मुंबई के किसी भी क्षेत्र से बहुत ज्यादा है. मई महीने के शुरुआत में कोरोना का रौद्र रूप यहां देखने को मिल रहा था जिसे अब जाकर कंट्रोल किया गया है. जी उत्तर विभाग के अंतर्गत आने वाले दादर, माहिम और धारावी में कोरोना मरीजों की संख्या 2241 हो गई है. 

जी उत्तर विभाग के सहायक मनपा आयुक्त किरण दिघावकर ने बताया कि लगातार हो रही जांच के कारण अब कोरोना नियंत्रण में आ रहा है. प्रवासी मजदूरों के धारावी छोड़ने पर उन्होंने कहा कि इससे थोड़ा फर्क पड़ेगा, लेकिन अब भी धारावी में 6 से 7 लाख लोग हैं. स्क्रीनिंग करना जिन्हें कोरोना के लक्षण हैं उनकी जांच कर संक्रमितों को अस्पताल में भर्ती करना और क्वारंटाइन करने की प्रक्रिया सतत चल रही है. कोविड मरीजों को भर्ती करने के लिए कई अस्पताल हैं वहां मरीजों को भर्ती किया जा रहा है. धारावी में रिकवरी दर 42 प्रतिशत है. मुंबई में मंगलवार को कोरोना के 1002 नये मरीज मिले और 39 मरीजों की मौत हो गई. कोरोना मरीजों की संख्या 32,974 और मृतकों की संख्या 1065 हो गई है.