मुंबई : कोरोना के खिलाफ जीतेंगे जंग

मुंबई :  मुंबईकरों से निवेदन है कि जैसे इतने दिन अपने घरों में रुके वैसे कुछ दिन और धैर्य रखते हुए अपने घर में रहें. कोरोना से लड़ाई अंतिम चरण में है, उसे  हराने में हम अवश्य सफल होंगे. मुंबईकरों  से यह आवाहन बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने किया है. बीएमसी कमिश्नर चहल ने रविवार को सायन अस्पताल का निरीक्षण किया. वहां के आइसीयू और कोरोना वार्ड का जायजा लेने के बाद उन्होंने कहा कि यह अस्पताल हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है. अस्पताल में भर्ती मरीजों से उन्होंने सीधे संवाद किया और स्वास्थ्य सेवकों से उनकी परेशानी को समझा. 

आयुक्त ने कहा कि मुंबई के सभी अस्पतालों के आइसीयू वार्ड में सीसीटीवी लगाया जाएगा जिस पर  कंट्रोल रूम से नजर रखी जाएगी. मुंबई में कोरोना मरीजों के दुगुना होने की दर 14.5 है.  केंद्र सरकार की सभी गाइडलाइंस का पालन किया जा रहा है.  संक्रमित मरीज की रिपोर्ट 7 दिन में निगेटिव आने पर ऐसे मरीजों को  डिस्चार्ज किया जा रहा है. इससे दूसरे मरीजों के लिए बेड उपलब्ध हो रहा है. 

आयुक्त ने कहा कि मुंबई में 1लाख बेड का नियोजन किया जा रहा है जिसमें से 50 हजार का लक्ष्य पूरा हो गया है. वानखेड़े स्टेडियम में कोविड बेड बनाने से उन्होंने इनकार किया, हालांकि शनिवार को महापौर किशोरी पेडणेकर ने वहां का जायजा लिया था. उन्होंने कहा कि फिलहाल मुंबई में डाक्टरों की कमी नहीं है. 50 डाँक्टर वर्धा जिले से आये हैं और अंबाजोगोई लातूर से 100 डाँक्टर आ रहे हैं. यहां दाई और वार्ड ब्वॉय की कमी है क्योंकि वे दूर-दूर रहते हैं. चहल ने बताया कि मुंबई में एंबुलेंस को लेकर दिक्कत थी. हमारे पास सिर्फ 80 एंबुलेंस थी ,लेकिन अब बेस्ट की बसों को एंबुलेंस में बदल दिया गया है उनकी सेवा मिलने से यह समस्या भी दूर हो गई है. 

हम कंटेनमेंट जोन में सख्त कदम उठा रहे हैं. राज्य की राजधानी मुंबई कोरोना का हॉटस्पाट बन गई है. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का तीसरा चरण पूरा होने के बाद भी मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है. धारावी जैसी झोपडपट्टियों में कोरोना वायरस फैल गया है जिस कारण से कोरोना के विस्फोटक होने की आशंका व्यक्त की जा रही है.  आयुक्त ने मुंबईकरों  को आश्वासन दिया कि घर में रह कर धैर्य बनाए रखेंगे तो हम कोरोना को हराने में जरूर कामयाब होंगे.