3 साल में ट्रेन में 14 बार की चोरी, यूपी काउंसलर बना पश्चिमी रेलवे का सिरदर्द

मुंबई 

मुंबई से लगभग 1,600 किमी दूर के एक शहर का काउंसलर रेलवे और पुलिस अधिकारियों के लिए सिर दर्द बना हुआ है। 33 वर्षीय हरविंदर 'सनी' सिंह, उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के हल्दौर के वॉर्ड 21 के काउंसलर ने कथित रूप से 2015 से अब तक 14 बार ट्रेन में चोरी की वारदात को अंजाम दिया है। वह पिछले महीने मुंबई सेंट्रल-इंदौर एक्सप्रेस में हुई एक वारदात में भी शामिल था। कम से कम तीन साल तक, हरविंदर कथित तौर पर वैध टिकटों पर देश के अलग-अलग हिस्सों से वातानुकूलित कोचों में यात्रा करता रहा। वह रात में यात्रियों के सोने का इंतजार करता था और इसके बाद उनका कीमती सामान चुराने के बाद लिया, उन्हें स्लीपर या जनरल कोच में अपने सहयोगी के पास भेज देता था। उसका साथी सामान लेकर भाग जाता और वह चुपचाप ऐसे घर लौट आता, जैसे कुछ हुआ ही न हो। 

इस साल अप्रैल में हरविंदर की किस्मत ने तब उसका साथ नहीं दिया जब विजयवाड़ा पुलिस ने उसे चोरी के लिए गिरफ्तार कर लिया था। पुलिस को पता चला कि 12 अन्य चोरी के मामलों के पीछे उसका हाथ था। पुलिस ने उससे 70,38,500 रुपये के हीरे और सोने के गहने भी बरामद किए थे। तब उसे जमानत पर छोड़ दिया गया, लेकिन जल्द ही अपने चोरी के रास्ते पर वापस चला गया। वह पिछले महीने से फरार है। 

पश्चिमी रेलवे (डब्ल्यूआर) के अधिकारियों ने कहा कि उनका पिछला शिकार मुंबई सेंट्रल-इंदौर अवंतिका एक्सप्रेस का एक यात्री बना, जिसने 8 जुलाई को 3232 बोर की लाइसेंसी पिस्टल, गोलियों के 10 लाइव राउंड, एक अतिरिक्त मैगजीन और 1.90 लाख रुपये की चोरी की सूचना दी थी। 

मध्य प्रदेश उज्जैन की सरकारी रेलवे पुलिस (जीआरपी) ने चोरी का मामला दर्ज करने के बाद, पीड़ित ने मुंबई सेंट्रल स्टेशन से सीसीटीवी वीडियो ग्रैब्स से हरविंदर की पहचान की। पुलिस और जीआरपी साथ मिलकर उसे पकड़ने की कोशिश कर रहे हैं।