नागपुर : किराना बंद की अफवाह

नागपुर : जनता कर्फ्यू को मिली 100 फीसदी सफलता के ठीक दूसरे ही दिन सिटी में धारा 144 लागू थी. बावजूद इसके सुबह से नागरिक घरों से बड़ी संख्या में बाहर निकले. दोपहिया वाहनों पर तो युवा भी बेवजह ही घूमते नजर आए. कुछ इलाकों में किराना, डेयरी व मेडिकल में भीड़ नजर आई. इसी दौरान जब मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्यभर में कर्फ्यू लगाने और सड़क पर बेवजह उतरने वालों पर कार्रवाई का कदम उठाया तो आरेंज सिटी में कुछ इलाकों में मंगलवार से किराना बंद किए जाने की अफवाह भी फैल गई, जिससे सदर, अनंतनगर आदि इलाकों की बस्तियों में स्थित किराना दूकानों में अचानक लोगों की भीड़ बढ़ गई. 

अचानक बढ़ी भीड़ से किराना वाले भी परेशान हुए और पुलिस व प्रेस में फोन कर इसकी सच्चाई जानने का प्रयास करने लगे. जब उन्हें बताया गया कि ऐसा कोई आदेश नहीं है और जीवनावश्यक वस्तुओं की दूकानें यथावत खुली रहेंगी तो उन्हें राहत मिली. लेकिन दूकान में ग्राहकों की उमड़ी भीड़ उनसे संभाले नहीं संभल रही थी. 

अफवाहों पर विश्वास नहीं करने का जिलाधिकारी, मनपा आयुक्त, पुलिस आयुक्त सहित सरकार की ओर से बार-बार अपील की जा रही है. अखबारों व टीवी चैनलों के माध्यम से बार-बार यह भी बताया जा रहा है कि पेट्रोल पंप, दवा दूकानें, किराना, सब्जी-फल, डेयरी बंद नहीं होंगे, बावजूद इसके सोमवार को सदर व अनंतनगर सहित दक्षिण नागपुर में भी कुछ इलाकों में किराना दूकानों में भीड़ देखी गई. कुछ लोग तो 2-2 महीने का राशन भर रहे हैं. कुछ तो दोपहिया पर अनाज के बोरे व तेल के पीपे लादे ले जाते देखे गए.

इधर, मेडिकल स्टोर्स में भी लोग अनावश्यक दवाएं खरीदने में लगे हुए हैं. लोग डर के कारण सर्दी, जुकाम, बुखार, एसीडिटी आदि की दवाएं खरीद कर घर में रख रहे हैं. वहीं मास्क व सैनिटाइजर भी खरीद रहे हैं. मेडिकल वालों को सख्त आदेश है कि वे बिना बिल के सैनिटाइजर व मास्क नहीं बेचेंगे. इसकी जांच के लिए मनपा की टीम लगातार बस्तियों में स्थित मेडिकल दूकानों में बार-बार पहुंच रही है. कुछ मेडिकल संचालकों का कहना है कि ग्राहकों की भीड़ और उस पर  टीम द्वारा परेशान किए जाने से वे त्रस्त हो गए हैं. जनता की सेवा के लिए वे रात 12 बजे तक भी दूकान में बैठ रहे हैं.

इधर, प्रशासन ने 200 एमएल सैनिटाइजर 100 रुपये में और मास्क 10 रुपये से अधिक में नहीं बेचने का आदेश जारी किया है. कुछ कम्पनियों के अच्छी क्वालिटी के सैनिटाइजर की खरीदी ही 150 रुपये या उससे अधिक की है. ऐसे सैनिटाइजर को वे 100 रुपये में कैसे बेच सकेंगे. अच्छा मास्क 10 रुपये में नहीं दिया जा सकता क्योंकि उसकी खरीदी ही उससे अधिक की है. ऐसे में कुछ मेडिकल वालों ने सैनिटाइजर व मास्क नुकसान पर बेचना बंद कर दिया है, क्योंकि उन्हें कार्रवाई का भय सता रहा है.