क्या Cash लेन-देन करने से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, जानें यहां इन 4 बातों पर ध्यान देना क्यों जरूरी

क्या Cash लेन-देन करने से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, जानें यहां इन 4 बातों पर ध्यान देना क्यों जरूरीकोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा अभी भी टला नहीं है। इसके नए मामले अभी भी सामने आ रहे हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप विशेष सावधानी बरतकर संक्रमण की जद में आने से बचे रहें और अपने आपको सुरक्षित रखें। आज भी खरीददारी करने वाले बहुत से लोग नकद लेन-देन ही करते हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए यह आपको खतरे में डाल सकता है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की तरफ से अब एक नई गाइडलाइन सारी की गई है, जिसे कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने में एक अहम कदम बताया जा रहा है। यह गाइडलाइन कैश लेने और देने के बारे में है। नीचे जानें कि आरबीआई ने ऐसा क्यों कहा है और आपको क्या करना है?
कोरोना वायरस के संक्रमण को बढ़ते देखते हुए कई प्रकार की गाइडलाइन अभी तक जारी की जा चुकी है। यह गाइडलाइन सरकार की ओर से भी आई हैं और डॉक्टरों की ओर से भी... आरबीआई ने भी कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए नगद लेन-देन से लोगों को बचने के लिए कहा है। आरबीआई ने लोगों से अनुरोध किया है कि, "फिलहाल लेन-देन के लिए लोग डिजिटल माध्यम का उपयोग करें।" ऐसा करने से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा काफी हद तक कम हो जाएगा।
डॉक्टरों के द्वारा अभी तक मिली हुई हेल्थ एडवाइजरी और विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा जारी की गई हेल्थ एडवाइजरी को देखा जाए तो रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा कही गई बात को गंभीरता से लिया जाना आवश्यक है। कोरोना वायरस का संक्रमण पर्सन टू पर्सन फैलता है और अगर आप नगद लेन-देन कर रहे हैं तो, ऐसे में दो व्यक्तियों के बीच की दूरी ज्यादा नहीं होगी। इस स्थिति में अगर सामने वाला व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित है या फिर उसमें फ्लू के लक्षण हैं, तो वह आप तक भी बड़ी आसानी से पहुंच सकते हैं। इसलिए संक्रमण से बचे रहने के लिए और लोगों को इससे बचाए रखने के लिए कोशिश करें कि नगद लेन-देन का इस्तेमाल न करें।
नगद लेन-देन के जरिए कोरोना वायरस की आशंका अधिक है। यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति से नगद ले रहे हैं, जिसे कोरोना वायरस का संक्रमण है या फिर उसे सर्दी-जुकाम, खांसी और छींकने की ही समस्या है तो, जब उस व्यक्ति को खांसी या छींक आएगी तो वह अपने हाथों का इस्तेमाल जरूर करेगा। इसके बाद अगर हाथ सैनिटाइजर से साफ नहीं किए गए हैं तो आप तक ये संक्रमण बड़ी आसानी से ट्रांसफर हो जाएगा। इसलिए कोशिश करें कि किसी भी दुकानदार या व्यक्ति से नकद लेन-देन जरूरी हो तभी करें या तो डिजिटल पेमेंट ही करें।
आरबीआई के मुख्य महाप्रबंधक योगेश दयाल ने इस बारे में और भी जानकारी स्पष्ट की है।दरअसल जब आप किसी से भी नगद लेन-देन करेंगे तो इसका सीधा सा मतलब यह है कि आपके पास कैश होगा। जब यह कैश खत्म हो जाएगा तो आप किसी ने किसी एटीएम के पास जरूर जाएंगे और अगर वहां पर 10 से 12 लोग खड़े हुए हैं तो यह स्थिति आपके लिए सावधानी बरतने वाली होगी। इस समय 2 लोगों के बीच की दूरी 1 मीटर बनाए रखना काफी मुश्किल होगा और संक्रमण का खतरा भी अधिक रहेगा। आप जिस भी एटीएम से कैश निकालने जाएंगे वहां पर भी अलग-अलग इलाकों से लोग आए होंगे, जिससे संक्रमण की आशंका अधिक रहेगी। इसलिए नगद लेन-देन ना करके आपको एटीएम या फिर भीड़भाड़ वाली जगह पर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी और आप सुरक्षित रहेंगे।