दहशत में महिलाएं, कोई आधी रात को देर तक बजाता है डोर बेल

नई दिल्ली साउथ दिल्ली के अलकनंदा डीडीए फ्लैटों में रहने वालीं कुछ महिलाएं और लड़कियां इन दिनों डरी-सहमी हुई हैं। इनके डर का कारण डोर बेल है। आधी रात कोई फ्लैटों के बाहर आता है। पहले गेट खटखटाता है, फिर घंटी बजाकर भाग जाता है। एक लड़की तो अकेली रहती है। वह गेट खोलने की हिम्मत ही नहीं जुटा पा रहीं। पीड़ित लड़की ने बताया कि सोमवार तड़के 3 बजे भी वही हुआ। उनके फ्लैट की घंटी बजी। वह काफी डर गई थीं। उन्होंने फौरन 100 नंबर पर पुलिस को सूचना दी। पीड़ित का कहना है कि आधे घंटे तक पुलिस के फोन तो उनके पास आते रहे, लेकिन मदद के लिए कोई नहीं आया। पुलिस की ओर से कभी फ्लैट की लोकेशन पूछी जाती तो कभी नाम और दूसरी डिटेल्स। उन्होंने पुलिसवाले से यह भी कहा कि इमर्जेंसी में तो तुरंत रिस्पॉन्ड करें लेकिन कोई भी मदद के लिए नहीं आया। मामला साउथ-ईस्ट दिल्ली के कालकाजी थाना एरिया का है। पीड़ित लड़की की मानें तो कुछ दिनों के भीतर ही ऐसा तीन बार हो चुका है। पहले फ्लैट का गेट खटखटाया जाता है। नहीं खोलने पर काफी देर तक डोर बेल बजाई जाती है। आसपास पूछने पर पता चला कि वह अकेली ऐसी नहीं हैं, जो डर में रात गुजार रही हैं। सामने वाले फ्लैट में रहने वालीं एक आंटी के फ्लैट की घंटी भी बजाई जा चुकी है। इस घटना से लोग डरे हुए हैं। हर रात उन्हें यही लगता है कि आज फिर फ्लैट की घंटी बजेगी। इस मामले में डीसीपी चिन्मय बिश्वाल का कहना है कि वह मामले का पता लगा रहे हैं। जितनी जल्दी हो सकेगा, उस अनजान शख्स को पकड़ा जाएगा। पुलिस वाले से कहा भी कि इमर्जेंसी में तो आपको तुरंत रिस्पांड करना चाहिए।