‘मेट्रो दिनांक’ के संपादक व वरिष्ठ पत्रकार दीनानाथ तिवारी के ऊपर हुआ जानलेवा हमला

‘मेट्रो दिनांक’ के संपादक व वरिष्ठ पत्रकार दीनानाथ तिवारी के ऊपर हुआ
जानलेवा हमला
मुंबई। मालाड पूर्व पठान वाड़ी एक्सप्रेस हाइवे के पास ‘मेट्रो दिनांक’
अखबार के संपादक दीनानाथ तिवारी के ऊपर कुछ गुंडो ने जानलेवा हमला किया,
जिन्हें कांदीवली के शताब्दी अस्पताल के बाद मालाड के श्री बालाजी
अस्पताल में उपचार हेतु भर्ती कराया गया है।
आपको बता दें कि मालाड के पठान वाड़ी एक्सप्रेस हाइवे, रिलायंस एनर्जी के
पास कांग्रेसी नेता जया पेंगल का अॉफिस है। उस अॉफिस में संतोष नगर का
रहने वाला कांग्रेसी नेता के. ए.दीक्षित प्रति दिन वहां आकर बैठता है और
पत्रकारों को जी भर गालियाँ बकते रहता है, और वहां बैठे कांग्रेसी नेता
दीक्षित को और उकसाने का प्रयास करते रहते हैं।
२५ जुलाई २०१८ को दोपहर को संयोग से उस ऑफिस में जया पेंगल से मिलने
‘मेट्रो दिनांक’ के संपादक दीनानाथ तिवारी गए हुए थे। उसी दौरान दीक्षित
पत्रकारों को लेकर तरह-तरह की बातें और गालियाँ बक रहा था और वहां बैठे
कांग्रेसी नेता लुफ्त उठा रहे थे। यह माजरा देख दीनानाथ तिवारी को बुरा
लगा और दीक्षित को रोकने का प्रयास करने लगे तो दीक्षित ने दीनानाथ
तिवारी को भी बुरा भला कहने लगा। इसके बाद दीक्षित ने अपने लड़के अवधेश
दीक्षित को फोन किया और उसे १५ गुंडों (चर्सी और गर्दुल्ले) को लेकर जया
पेंगल के ऑफिस पर पहुंचने के लिए कहा, १५ - २० मिनट के बाद कई गुंडे
पहुंच गए और दीनानाथ तिवारी के ऊपर जानलेवा हमला कर दिया। जिसमें लोहे के
रॉड, सरिया से हमला किया जिसमें श्री तिवारी को गंभीर चोटें आयी है।वहां
मौजूद कई लोगों के बीच-बचाव के बाद किसी तरह दीनानाथ तिवारी को बचा लिया
गया।
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार के. ए. दीक्षित संतोष नगर का बदनाम
व्यक्ति है जो अवैध तरीके रिक्शा पार्विंâग कराना, चर्सी, गर्दुल्लों को
संरक्षण देने के लिए बदनाम है। के. ए. दीक्षित और उसका बेटा अवधेश
दीक्षित ने संतोष नगर में अवैध गतिविधयां को आए दिन अंजाम देते रहते हैं।
इनकी अवैध गतिविधियों को कुछ पत्रकारों ने उजागर करना शुरू किया तो ये
बाप-बेटे सभी पत्रकारों पर खार खाकर बैठे थे।
सूत्रों का कहना है कि दीक्षित पिता-पुत्र ने वरिष्ठ पत्रकार दीनानाथ
तिवारी पर हमला करके अपने अवैध धंधे को खुद ही नेस्तानाबूत करने का काम
किया है। अवैध रिक्शा पार्विंâग की वसूली पर उछलने वाले दीक्षित
पिता-पुत्र और उनके चर्सी गर्दुल्ले गुंडों को पुलिस और पत्रकार संगठनों
ने सबक सिखाने के लिए कमर कस लिया है।
वरिष्ठ पत्रकार दीनानाथ तिवारी पर हुए हमले की पत्रकारिता जगत के साथ-साथ
राजनीतिक  दलों के नेताओं ने तीखी प्रतिक्रिया करते हुए कहा है कि श्री
तिवारी पर हमला करने वाले गुंडों पर कडक कानूनी कार्रवाई की जाए। वहीं
पत्रकारों ने मांग की है कि पत्रकार संरक्षण कानून  लागू होने के बाद
वरिष्ठ पत्रकार पर हुए इस हमले के बाद आरोपियों को जल्द से जल्द सलाखों
के पीछे डालकर उनपर कडक कानूनी कार्रवाई की जाए।