मजदूर को 1.05 करोड़ रुपए टैक्स चुकाने का नोटिस

मुंबई. करीब 300 रुपए रोज कमाने वाले ठाणे के कल्याण में रहने वाले मजदूर भाऊसाहब अहिरे (35) को इनकम टैक्स दफ्तर की ओर से 1.05 करोड़ भुगतान करने का नोटिस जारी किया गया है। अहिरे परिवार एक साथ एक झुग्गी में रहता है। यह नोटिस उसके बैंक अकाउंट में जमा धनराशि के आधार पर भेजा गया है। मामले में अहिरे ने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई है।

नोटबंदी के दौरान खाते में जमा हुए 58 लाख रुपए  

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के मुताबिक, नवंबर 2016 में 'नोटबंदी' के दौरान अहिरे के अकाउंट में 58 लाख रुपए जमा किए गए थे। अहिरे मूल रूप से उस्मानाबाद जिले के रहने वाले हैं। वह अंबिवली के गेलगांव में एक झुग्गी में अपने पिता-ससुर के स्वामित्व वाले 100 वर्ग फुट के कमरे में रहते हैं। उसके साथ यहां पत्नी पूनम (32), दो बेटियां जिया (8) और रिया (5), बेटे आरुष (3) पिछले 6 साल से रह रहे हैं।

वोटर आईडी और पैन कार्ड के जरिए खोला खाता

अहिरे ने बताया कि उन्हें पिछले साल 5 सितंबर को एक निजी बैंक खाते में रु 58 लाख जमा करवाने पर स्पष्टीकरण मांगने के लिए आईटी विभाग से नोटिस मिला था। अहिरे ने कहा कि वह अनपढ़ है और इसलिए उसने अपने पड़ोसियों को इसकी जानकारी दी और उनके समझाने पर उन्होंने आईटी विभाग के अधिकारियों से संपर्क किया था। जहां से उन्हें बैंक से संपर्क करने की सलाह दी गई थी। अहिरे ने बताया कि बैंक से उन्हें जानकारी मिली कि उनके पैन कार्ड और वोटर आईडी कार्ड से एक फर्जी अकाउंट खोला गया और उसमें पैसे जमा करवाए गए। 

30 दिन में वसूली का नोटिस दिया गया

उन्होंने दावा किया है कि जालसाजों ने उनके फर्जी हस्ताक्षर करके अकाउंट खोला है और जो पैन कार्ड की कॉपी लगी है उसमें फोटो भी अलग है। इस मामले में फिर एक बाद 7 दिसंबर को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का नोटिस आया, जिसमें वर्ष 2017-18 में अर्जित आय के लिए रु .1.05 करोड़ का कर चुकाने के लिए कहा गया। उसमें यह भी कहा गया है कि टैक्स नहीं देने पर डिपार्टमेंट 30 दिनों में वसूली का काम शुरू करेगा।  उन्होंने बताया, 'मैंने अपने जीवन में कभी भी 1 लाख रुपये नहीं देखे। मैं रु .1.05 कर का भुगतान कैसे कर सकता हूं?'

पुलिस स्टेशन में दर्ज करवाई शिकायत

अहिरे ने इस बार ठाणे ग्रामीण पुलिस अधीक्षक शिवाजी राठौड़ से संपर्क किया और धोखेबाजों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। अहिरे की शिकायत पर राठौड़ ने टिटवाला पुलिस को मामले की जांच करने का आदेश दिया है। राठौड़ ने कहा, "मैंने एक निरीक्षक द्वारा जांच का आदेश दिया है और जल्द दोषियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करेगें।"