गाजियाबाद: दो बच्चों की हत्या कर, आठवीं मंजिल से दो पत्नियों संग लगाई छलांग, 1 महिला गंभीर

गाजियाबाद:  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद के पॉश इलाके इंदिरापुरम में मंगलवार तड़के एक शख्स ने बेटा-बेटी की हत्या के बाद अपनी दोनों पत्नियों के साथ आठवीं मंजिल से कूदकर खुदकुशी कर ली। एक महिला गंभीर रूप से घायल बताई जाती है। इस कांड के पीछे की राकेश वर्मा को जिम्मेदार बताया जा रहा है जो मरने वाले शख्स का साढू है। 

पुलिस को घर की दीवार पर लिखा हुआ एक सुसाइड नोट भी मिला है। जिसमें लिखा है कि क्रिया कर्म के पैसे, हमारी पांचों की आखिरी तमन्ना है कि हमारी लाशों को एक साथ जलाया जाए। हमारी मौत का जिम्मेदार है राकेश वर्मा। मरने वाला शख्स पांच सौ रुपये के साथ एक चेक भी छोड़ कर गया है। एसएसपी सुधीर कुमार ने बताया कि एक शख्स ने सोसाइटी की आठवीं मंजिल से अपनी दो पत्नियों के साथ छलंगा लगा दी है। इसमें से दो की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक महिला को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एसएसपी ने बताया कि जब वह घर पहुंचे तो वहां पर दो बच्चों की लाश उन्हें मिली है। जिसमें एक 10 से 11 साल की लड़की है और दूसरा लड़का है। 

घटनास्थल पर मौजूद गाजियाबाद के एक पुलिस अधिकारी ने मंगलवार को एजेंसी को बताया, “कुछ समय पहले कॉलोनी के गार्ड ने आठवीं मंजिल से दो महिलाओं और एक आदमी को कूदते देखा।” सूचना पाकर जब पुलिस मौके पर पहुंची तो पता चला कि फ्लैट में रहने वाले शख्स की दो पत्नियां थीं। इसी बात को लेकर अक्सर चिक-चिक मची रहती थी। घटना से पूर्व भी काफी देर तक फ्लैट से चीखने-चिल्लाने की आवाजें आती रही थीं। उसके कुछ देर बाद ही कालोनी सुरक्षा गार्ड्स को आठवीं मंजिल की बालकनी से कुछ लोगों के नीचे गिरने की सूचना मिली।

घटनास्थल पर मौजूद एक पुलिस अधिकारी ने एजेंसी को बताया, “पति-पत्नी और दो बच्चों की मौत हो गई। जबकि एक महिला को गंभीर हालत में अस्पातल में भतीर् कराया गया है। परिवार में बची घायल महिला कौन है अभी यह भी पता नहीं लगा है।” अब तक हुई पुलिस छानबीन में मौके से कोई सुसाइड नोट मिलने की बात भी सामने नहीं आई है। पुलिस को अंदेशा है कि, सब कुछ अचानक लड़ाई-झगड़े के दौरान ही हुआ लगता है। संभव है कि ऐसे में किसी को सुसाइड नोट लिखने का मौका ही न मिला हो। अपार्टमेंट के सुरक्षाकर्मियों और यहां रहने वाले लोगों ने पुलिस को यह जरूर बताया कि घर में दो-दो बीबियों को लेकर आये-दिन तू-तू- मैं-मैं होती रहती थी। हालांकि जांच में जुटी और मौके पर मौजूद इंदिरापुरम थाना पुलिस अभी कुछ भी साफ-साफ कहने से बच रही है।