मुंबई : जीआरपी के हत्थे चढ़ा 60 बार गुनाह करने वाला आरोपी

मुंबई : रेलवे स्टेशनों पर लगातार चेन स्नैचिंग की बढ़ती घटनाओं ने प्रशासन की नींद उड़ा दी है। इन पर लगाम कसने के लिए रेलवे पुलिस ने पुराने अपराधियों के रेकॉर्ड खंगालने शुरू किए हैं। जीआरपी कमिश्नर रविंद्र सेनगावकर, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी और रेलवे की क्राइम ब्रांच युनिट ने इसके लिए विशेष टीम का गठन किया है। इस टीम ने एक आदतन अपराधी को पकड़ कर चेन स्नैचिंग के पूरे 'गंदे धंधे' को उजागर करने की शुरुआत की है। जीआरपी को पता चला कि हाल ही में अंधेरी स्टेशन पर एक आरोपी पकड़ा गया है जिसका नाम राजु मधुकर पाटील है। विरार में रहने वाली 36 वर्षीय राजु पाटील पर कुल 60 मामले दर्ज हैं। न्यायिक हिरासत में कैद पाटील को कोर्ट में हाजिर कर जीआरपी ने अपनी हिरासत में लिया।

19 नवंबर को हिरासत मिलने के बाद पता चलाकि पाटील रेलवे स्टेशनों पर चेन स्नैचिंग की 23 घटनाओं को अंजाम दे चुका है। इनमें से सबसे अधिक अंधेरी जीआरपी की हद में 9 और 7 बार वसई जीआरपी की हद में घटनाओं को अंजाम दिया है। अंधेरी और वसई के बाद पालघर और बोरीवली में 3-3 बार और 1 अपराध डोंबिवली जीआरपी में दर्ज हैं। इस तरह कुल 23 अपराध को अंजाम दिया। जीआरपी ने बताया कि अपराध को अंजाम देने के बाद राजु पाटील ने विरार के जिस व्यापारी को गहने बेचे थे, उसे भी हिरासत में लेकर 4.57 लाख रुपये (181 ग्राम सोना) के गहने जब्त किए हैं। अंधेरी जीआरपी ने 9 मामलों में 115 ग्राम के सोने के, जिनकी कीमत लगभग 3 लाख रुपये बताई जा रही है। जीआरपी ने बताया कि राजु से अब तक 23 मामलों में 11.57 लाख का माल वापस जब्त किया जा चुका है। पुलिस ने बताया कि रेलवे स्टेशनों के अलावा सिटी पुलिस ने भी इसके खिलाफ मामले दर्ज किए हैं। इस तरह राजु पर कुल 60 मामले दर्ज हैं।