थर्टी फर्स्ट की रेव पार्टियों का आयोजन अभी से शुरू

ठाणे : नए वर्ष को आने में कुछ दिन शेष रह गए हैं। थर्टी फर्स्ट की रेव पार्टियों का आयोजन अभी से शुरू हो चुका है। इन पार्टियों में सबसे अधिक एलएसडी ड्रग्स की मांग है। इसी मांग की पूर्ति करने आए ड्रग्स तस्कर को ठाणे नार्कोटिक्स ने धर-दबोचा। पुलिस सूत्रों के अनुसार इस एलएसडी ड्रग्स लेने के बाद नशेड़ी को आदमी का कार्टून नजर आता है। थर्टी फर्स्ट की पार्टी कार्टून के साथ मनाने के लिए ड्रग्स लेनेवालों में एलएसडी की मांग बढ़ गई है। बता दें कि थर्टी फर्स्ट के दिन अलग-अलग होटलों और पबों में रेव पार्टियों का आयोजन किया जाता है। पुराने वर्ष को अलविदा कर नए वर्ष का स्वागत इस दिन किया जाता है। रेव पार्टियों को बेहतर और मजेदार बनाने के लिए पार्टियों में ड्रग्स के खेप की पूर्ति की जाती है। इन्हीं रेव पार्टियों में ड्रग्स जैसे नशीले पदार्थों की तस्करी को ध्यान में रखकर एंटी नार्कोटिक्स पुलिस निरंतर कार्रवाई करती रहती है। इसी कार्रवाई के दौरान ठाणे एंटी नार्कोटिक्स पुलिस ने ठाणे शहर के येउर परिसर से पार्टी ड्रग्स में शामिल एलएसडी (लेसरजीक एसिड डाई एथिल अमााइड) के १०४, ५८ ग्राम एमडी पावडर, ६.४ ग्राम चरस जप्त किया है। जप्त नशीले पदार्थों की कुल कीमत ११ लाख ६४ हजार ६४० रुपए बताई जा रही है। ड्रग्स के साथ पुलिस ने नई मुंबई के रहनेवाले सलमान शेख (२८), संजीव चौहान (२७), नितिन लामतुरे (३३) और सुशांत रसाल (३२) को गिरफ्तार किया हैं। इसी वर्ष जून महीने में पुलिस ने उपवन परिसर में दो आरोपियों के पास से २५ एलएसडी पेपर जप्त किया था। ठाणे एंटी नार्कोटिक्स विभाग के वरिष्ठ पुलिस विजय पवार ने बताया कि प्राथमिक जानकारी के आधार पर थर्टी फर्स्ट की पार्टियों के लिए ही ड्रग्स लाया गया था। यह ड्रग्स कहां से लाया गया? इस दिशा में पुलिस जांच कर रही है।

एलएसडी ड्रग्स पेपर के टुकड़े जैसा रंग- बिरंगी और स्टिकर जैसा दिखता है, जिसकी १/१ की लंबाई और चौड़ाई होती है। इस छोटे से पेपर की कीमत बाजार में ५ हजार रुपए है। इसका सेवन करनेवाले को सभी जगह कार्टून नजर आता है। इस ड्रग्स से मानसिक तनाव कम किया जाता है लेकिन लत लगने के बाद इसे लेनेवाला बर्बाद हो जाता है। एक टुकड़े का नशा पूरे १८ घंटे तक रहता है। ठाणे पुलिस आयुक्तालय क्राइम ब्रांच के उपायुक्त दीपक देवराज ने बच्चों के परिजन को सतर्क करते हुए कहा है कि यदि बच्चों के पास ऐसा कोई पेपर का टुकड़ा नजर आता हैं तो उनसे पूछताछ कर पुलिस को इसकी जानकारी दें।