मुंबई : घर-घर नहीं बटेंगे कचरे के डिब्बे

मुंबई : घर-घर बांटे जाने वाले छोटे कचरे के डिब्बे के मुफ्त वितरण पर जल्द ही रोक लग सकती है। बीएमसी द्वारा कचरे के डिब्बे के वितरण के संदर्भ में पॉलिसी तैयार की गई है, इसे अंतिम मंजूरी के लिए बीएमसी कमिश्नर प्रवीण परदेशी के पास भेजा गया है। इसमें, कचरे के 120 और 240 लीटर के डिब्बे के वितरण के लिए भी प्रक्रिया तय की गई है। पॉलिसी को मंजूरी मिलने के बाद नए नियमों के आधार पर ही डिब्बे का वितरण होगा। घर-घर में गीले और सूखे कचरे को अलग करने के उद्देश्य से छोटे वितरण किए जा रहे थे। इससे कचरे के संकलन को व्यवस्थित करने का इरादा था। डिब्बे के वितरण को लेकर तमाम चर्चा के बाद इस संदर्भ में पॉलिसी बनाने के लिए एक समिति का गठन किया गया था। समिति ने छोटे डिब्बे के वितरण पर रोक लगाने की सिफारिश की। समिति के एक सदस्य ने बताया कि बीएमसी का फंड किसी व्यक्ति को सुविधा के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता। छोटे डिब्बे सीधे घरों में दिए जाते थे, यानी उनका प्रयोग प्राइवेट होता था। इसी वजह से इस पर रोक लगाने की सिफारिश की गई है।

सोसायटियों में वितरित किए जाने वाले 120 और 240 लीटर के बड़े डिब्बे को लेकर भी प्रावधान किए गए है। पॉलिसी के अनुसार, सोसायटियों के पदाधिकारी की जानकारी के साथ नगरसेवक वॉर्ड को सूचित करेगा। उसी अनुसार, डिब्बे की खरीदी कर उसे सौंपा जाएगा। जिससे हर नगरसेवक के माध्यम से सोसायटी के पास पहुंचने वाले डिब्बे की पूरी जानकारी हो सकेगी। गौरतलब है कि बड़े डिब्बे के वितरण में खामियों को लेकर तमाम शिकायतें आई थीं, जिसके बाद कमिश्नर ने नई पॉलिसी बनाने तक डिब्बों के वितरण पर रोक लगा दी थी। सोसायटियों द्वारा लगातार डिब्बे की मांग होने से नगरसेवक भी पसोपेश की स्थिति में थे।