समता नगर पुलिस ठाणे के अधिकारियों ने लापता लड़की की हत्या की गुत्थी सुलझाई

कांदिवली : मामला समता नगर पुलिस ठाणे का है जब एक व्यक्ति ने समता नगर पुलिस ठाणे में शिकायत दर्ज कराई की मेरी १४ वर्ष की लड़की को दिनांक १.१०.२०१९ के दिन १४.०० से १६.०० के दरमियान किसी अज्ञात व्यक्ति ने अपने बहकावे मे लाकर लड़की को भगा ले गया। समता नगर पुलिस ठाणे  के पुलिस अधिकारियों ने शिकायत को गंभीरता से लेते हुए ०२.१०.२०१९ को गुनाह क्रमांक ४३६/२०१९ कलम ३६३ के तहत मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शरू की। मामले की शरूवाती जांच में गायब १४.वर्षयी लड़की का मोबाईल नंबर ले कर पुलिस अधिकारी  जांज  में जुट गए, मोबाईल नंबर की कॉल डिटेल में एक नंबर संशयित मिला । संशयित नंबर मिलते ही समतानगर पुलिस ठाणे के पुलिस अधिकारियों ने उस व्यक्ति को पुलिस ठाणे बुलाया और पूछताछ की तब उस व्यक्ति ने पूछताछ में पुलिस को गुमराह करते हुए कहा की मैने किसी लड़की को नहीं भगाया कोई गुनाह नहीं किया ! परन्तु मोबाईल की जांच पड़ताल पुलिस की शुरूवाती जांच से चल रही थी इसी आधार पे सभी से पूछताछ चल रही थी  पुलिस ने मोबाईल नंबर के आधार पर गुप्त जानकारी प्राप्त की और संशयित व्यक्ति को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो व्यक्ति ने अपना गुनाह कबूल करते हुए बताया की दिनांक ०१.१०.२०१९ के दिन दोपहर १४.३० को उसने लड़की को अपने घर बुलाया और लड़की से जबरदस्ती करने लगा लड़की ने अपना बचाव करते हुए भागने की कोशिश की तो आरोपी ने अपने बाजो में रखे मिल्टन कंपनी की पानी की बाटली लड़की के सर पर मारा और लड़की चिल्लाए नहीं इस लिए दोनों हाथो से उस का गला दबा कर उससे मार दिया  आरोपी ने लड़की को एक बड़े बैग में भर कर तलासरी पालघर फेक कर दिया । गिरफ्तार आरोपी की जानकारी के अनुसार समतानगर पुलिस ठाणे के अधिकारी तलासरी पुलिस ठाणे पालघर मामले की जांज के लिए पुँहचे तो पता चला की ०३.१०.२०१९.के दिन केस नंबर १६४/२०१९ कलम ३०२,२०१,के तहत मामला दर्ज किया गया है तलासरी पुलिस ठाणे  के अधिकारियों को एक लड़की की लाश बैग से बरामद हुई थी जिसके चलते उन्होंने एफ.आई.आर दर्ज किया था मर्डर जैसा गंभीर अपराध करने के बावजूद आरोपी भागा नहीं ताकि पुलिस को उस पे शक ना हो पुलिस के बार बार बुलाने पर आरोपी तुरंत पुलिस ठाणे पहुचता था ताकि पुलिस को उस पे शक ना हो .पुलिस को गुमराह करने के लिए आरोपी ने पुलिस को बातो में बहुत घुमाया पुलिस को गुमराह किया ताकि पुलिस आरोपी पे शक ना कर सके मगर मोबाईल नेटवर्क व दूसरे सबूतों के आधार पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मामला पूरा साफ कर दिया.

मा.अपर पुलिस आयुक्त,उत्तर विभाग मुंबई श्री दिलीप सावंत,मा पुलिस उप आयुक्त विभाग १२,डॉ श्री डी.एस.स्वामी,मा सहायक पुलिस आयुक्त,समतानगर पुलिस ठाणे विभाग,श्री लक्ष्मण चव्हाण ,वरिष्ठ पुलिस निरक्षक श्री राजू कसबे समतानगर पुलिस ठाणे के मार्क दर्शन में मामले के जांच अधिकारी पुलिस निरक्षक रविंद्र रणशेवरे,स.पुलिस निरक्षक शिवराज जाधव,पुलिस उप निरक्षक दत्तात्रय पाटिल,अनिल हादर,व पुलिस दस्ते ने अथक परिश्रम कर मोबाईल नंबर की मदद से मामला उजागर कियाऔर इस खून की गुत्थी को सुलझा दिया