महाराष्ट्र, मुंबई में किसकी सह पर बिक रहा है प्रतिबन्ध गुटका?

हम यहां अपने पाठकों को बताना चाहते हैं कि गुटके के जहर से आम जनता को बचाने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने गुटखे पर प्रतिबंध लगाया है. एक रिपोर्ट के मुताबिक हर साल गुटके से कई लोगों की मौत कैंसर जैसी बीमारियों से हो जाती है जिसके चलते महाराष्ट्र सरकार ने महाराष्ट्र में गुटखे पर प्रतिबंध लगाया है ताकि आम जनता इसका सेवन ना कर सके.
गुटके को ना खाने के लिए सरकार ने करोड़ों रुपया विज्ञापन पर भी खर्चा किया है और आम जनता को इससे होने वाली बीमारी से अवगत कराया है.
परंतु इसके बाद भी जनता इस प्रतिबंध गुटके का सेवन बड़ी आसानी से करती है मानो सरकार ने जो प्रस्ताव लाया है उसे किसी की परवाह ही नहीं लोग अपने परिवार का बगैर सोचे समझे इस प्रतिबंध गुटके का सेवन करते हैं और कैंसर जैसी बीमारियों को मोड़ लेते हैं यही वजह है कि सरकार ने गुटके को महाराष्ट्र में प्रतिबंध किया है और इसे रोकने के लिए फूड डिपार्टमेंट बनाया है जो के ऐसे प्रतिबंध गुटके को बेचने वालों पर सख्त कार्रवाई कर सके और इसका सेवन आम जनता ना कर सके परंतु इसके बावजूद बड़ी ही आसानी से यह गुटका हर पान की दुकान हर नुक्कड़ हर गली हर चौराहे में बिक रहा है वह भी ४ गुना दामों में क्यों?
ऐसा नहीं है के फूड डिपार्टमेंट इन गुटका तस्करों के ऊपर कार्रवाई नहीं करता बड़ी मात्रा में गुटखा बेचने वालों को पकड़ा जाता है इनके पास से लाखों रुपए का प्रतिबंध गुटका जप्त किया जाता है परंतु इसके बावजूद यह गुटका बड़ी आसानी से मार्केट में बिक रहा है इसकी वजह है सिर्फ कुछ ऐसे असामाजिक लोग जो अपने फायदे के लिए गुटके की तस्करी कररहे है.
हर इलाके में प्रतिबंध गुटका महाराष्ट्र सरकार को ठेंगा दिखाकर बेचा जा रहा हैं परंतु इनके ऊपर जिस तरीके की कठोर कार्रवाई होना चाहिए वह नहीं हो रही है.
इस प्रतिबंध गुटके के लिए जो कानून बनाया गया है कुछ विभागीय अधिकारी इस का दुरुपयोग कर इन गुटका माफियाओं के साथ मिल कर इन्हे बढ़ावा दे रहे है . जिसके कारण यह प्रतिबंध गुटका बड़ी आसानी से महाराष्ट्र में बिक रहा है. हम इस खबर के माध्यम से महाराष्ट्र सरकार से यह निवेदन करते हैं कि इसके ऊपर और कठोर कानून बनाया जाए ताकि गुटका माफिया का नामोनिशान महाराष्ट्र मुंबई शहर से मिट जाए और विभागीय अधिकारी को भी जांज के दायरे में लिया जाए जो इन गुटका माफिया को सपोर्ट कररहे है. पढ़िए अगले अंक में विस्तार से कहां-कहां कौन सी गली में कौन इन गुटको को बेच रहा है.