कचरा हुए चुनाव में किए गए वादे!

विरार : हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के दौरान उम्मीदवारों के विकास के वादे और दावे वसई-विरार में हवा-हवाई साबित हो रहे हैं। जन समस्याएं वसई-विरार शहर मनपा की कार्यप्रणाली की पोल खोल रही हैं। वसई-विरार मनपा क्षेत्र में अवैध बांधकाम, नालों-गटरों की सफाई न होना, सड़कों पर कचरे के ढेर, फुटपाथ के टूटे गटर के ढक्कन जैसी समस्याएं बनी हुई हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान स्थानीय पार्टी के नेता हितेन्द्र ठाकुर ने बयान दिया था कि चुनाव जीतने के बाद ही वसई-विरार के विकास कार्यों पर ध्यान दिया जाएगा। ठाकुर ने कहा कि विरोधियों ने तालुका की बहुत बदनामी कर ली है। लेकिन, चुनाव जीतने के बाद भी स्थिति जस की तस है। सड़कों किनारे पड़े कचरे के ढेर से आने वाली तेज दुर्गंध से जनता परेशान है। लोगों का सड़क किनारे चलना मुश्किल हो गया है। एक ओर इन समस्याओं से जुड़ी तस्वीरों ने स्वच्छ भारत अभियान को शर्मसार किया है, तो मनपा आयुक्त बी.जी. पवार ने अपने अधिकारियों के बजाय लोगों को दोषी बताया है। पवार का कहना है कि लोग सड़कों के किनारे कहीं भी फेंक कचरा देते हैं।