गुड न्यूज, जल्द मिलेंगी चीनी मोनो

मुंबई : मुंबईकर जल्द ही चीनी मोनो ट्रेन में सफर करते नजर आएंगे। कम रेक की समस्या से जूझ रहे महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (MMRDA) ने मोनो के नए रेक खरीदने का निर्णय लिया है। मोनो के 10 नए रेक खरीदने के लिए प्राधिकरण ने कुछ दिनों पहले वैश्विक निविदा जारी की थी। प्राधिकरण अधिकारी के अनुसार इसके लिए चीन की दो कंपनियों सीआरआरसी कॉर्पोरेशन लिमिटेड और बीवाईडी ने निविदा भरी है। आगामी कुछ दिनों में निविदा खोली जाएगी। कंपनी को मोनो रेक की सप्लाई का ठेका मिलने के बाद 15 महीनों में मोनो के 10 रेक मुंबई पहुंच जाएंगे। फिलहाल एक कोच की अनुमानित लागत 10 करोड़ रुपये बताई जा रही है।

मौजूदा समय में चेंबूर से संत गाडगे महाराज चौक के बीच मोनो रेल का संचालन हो रहा है। रेक की कमी की वजह से लोगों को 20 मिनट तक इंतजार में स्टेशन पर खड़े रहना पड़ता है। प्राधिकरण के पास अभी मोनो के 5 रेक हैं। इसमें से 4 रेक का इस्तेमाल यात्रियों की सेवा के लिए किया जा रहा हैं, जबकि एक रेक आपातस्थिति के लिए रखा गया है। नई ट्रेन आने के बाद लोगों को ट्रेन के इंतजार के लिए स्टेशन पर रुकना नहीं पड़ेगा। इसके बाद हर 15 मिनट पर मोनो रेल की सेवाएं उपलब्ध रहेंगी। फिलहाल मुंबई में मोनो के जो रेक चल रहे हैं, वे मलेशियाई इन्फ्रास्ट्रक्चर फर्म स्कोमी इंजीनियरिंग और लार्सन एंड टूब्रो द्वारा निर्मित हैं। मोनो का ठीक तरीके से रखरखाव नहीं करने और समय पर रेक की सप्लाई नहीं करने पर प्राधिकरण ने स्कोमी कंपनी से करार तोड़ दिया था।