अब तक ४ मौत, मौत बांटती मेट्रो!

मुंबई : मुंबई की यातायात व्यवस्था सुचारु रूप से चले इसलिए मुंबई के विभिन्न भागों में मेट्रो का निर्माणकार्य तेज गति से चल रहा है लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि मेट्रो के झटपट चल रहे काम से मेट्रो साइट पर लापरवाही के कारण मौत बांटती रहे। मेट्रो निर्माणकार्य के दौरान लगातार हो रहे हादसों से यही प्रतीत हो रहा है कि मुंबई की मेट्रो विकास के साथ-साथ अब मौत भी बांट रही है। शुक्रवार की भोर में एक बार फिर मेट्रो साइट पर निर्माण कार्य के दौरान हादसा होने से एक २५ वर्षीय मजदूर की मौत हो गई। घटना सुबह करीब ३ बजे वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे पर कांदिवली के पास घटी।
जानकारी के मुताबिक दहिसर से डीएन नगर मेट्रो-२ए के लिए यू गार्डर ट्रेलर पर ले जाया जा रहा था। करीब १०० टन का यू गार्डर ले जाते समय समता नगर पुलिस स्टेशन के पास यह हादसा हुआ। बताया जा रहा है कि ट्रेलर को जोड़नेवाली पिन पुलर से टूटने के कारण गार्डर वाहन पर गिर गया, जिसमें मेट्रो का निर्माणकार्य करनेवाली ठेका कंपनी ैमे.जे कुमारह्ण का मजदूर अरशद शेख की मौत हो गई।
इस घटना के बाद एक बार फिर एमएमआरडीए ने अपना रटारटाया बयान जारी किया है। एमएमआरडीए के प्रवक्ता दिलीप कवठकर का कहना है कि यह एक दुर्भाग्यपूर्ण हादसा है। मृतक के परिजनों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है। साथ ही इस हादसे के बाद सभी ठेकेदार काम के दौरान एहतियात बरतेंगे, ऐसी हमें आशा है।
बता दें कि यह पहली घटना नहीं है, जब मेट्रो के निर्माणकार्य के दौरान लापरवाही के चलते मेट्रो कर्मचारी या फिर किसी स्थानीय नागरिक की मौत हुई है। इस हादसे से महज कुछ महीने पहले भी मेट्रो निर्माणकार्य के दौरान हादसा हुआ था। हाल ही में मौनी रॉय की कार पर मेट्रो साइट से पत्थर गिरने से उनकी कार क्षतिग्रस्त हो गई थी।
जानकारी के मुताबिक अब तक विभिन्न मेट्रो साइट पर निर्माण कार्य के दौरान करीब आधा दर्जन से ज्यादा हादसे हो चुके हैं। इस तरह के हादसों में अब तक ४ लोगों की मौत हुई है। जानकारी के मुताबिक मौनी रॉय के साथ हुई घटना से कुछ दिन पहले ही मेट्रो-३ की अंडर ग्राउंड टनल खुदाई के दौरान हरीश चंद्र नामक मजदूर की मौत हो गई थी जबकि इस हादसे में एक मजदूर सुशील राम घायल हो गया था।
पहले भी हुए हादसे
नवंबर, २०१७ को मेट्रो-७ (दहिसर-अंधेरी) के निर्माणकार्य के दौरान एक मजदूर हरिओम यादव (२१) की मौत हो गई थी। एमएमआरडीए ने जनरल कंसल्टेंट और ठेकेदार को मजदूर के परिवार को मुआवजा देने का आदेश दिया था।
११ जून, २०१७ को वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे पर लोहे की छड़ें गिरने से यातायात प्रभावित हुआ था।
१२ जून, २०१८ को मेट्रो-७ के लिए बनाए गए गड्ढे में गिरने से ३ साल की शीतल मिश्रा की मौत हो गई थी।