जल्‍द होगी मॉनसून की विदाई

मुंबई : मुंबई और आसपास के इलाकों में फिलहाल बारिश न के बराबर है। इससे मॉनसून की विदाई के संकेत मिलने लगे हैं। मंगलवार शाम को तड़क-गरज ने मॉनसून की जल्द से जल्द विदा होने की संभावना को और भी पुष्ट कर दिया है। क्षेत्रीय मौसम विभाग ने मंगलवार की शाम और बुधवार को मुंबई और आसपास के इलाकों में बादल गरजने की संभावना जताई थी। शाम के वक्त मुंबई के कई हिस्सों में इसे महसूस भी किया गया। विशेषज्ञों के अनुसार, लंबे समय तक बारिश न होने और इसके बाद बादल गरजने से मॉनसून की विदाई को करीब माना जाता है। 

मौसम विभाग के पश्चिम भारत के उप महानिदेशक के. एस. होसालिकर का कहना है, 'देश में सबसे पहले राजस्थान से मॉनसून की औपचारिक विदाई शुरू होती है। फिलहाल देश के उत्तर-पश्चिम इलाके में ऐंटी साइक्लोन बना है। इस आधार पर हमने राजस्थान से 10 अक्टूबर से मॉनसून की औपचारिक विदाई की शुरुआत की घोषणा की है। एक बार यह प्रक्रिया शुरू होने के बाद आगे बढ़ने लगेगी। वर्तमान स्थिति के अनुसार, हमें नहीं लगता कि मुंबई या महाराष्ट्र से मॉनसून की विदाई में अधिक समय लगेगा।' बता दें कि महाराष्ट्र से 10 अक्टूबर से मॉनसून की विदाई शुरू होती है, लेकिन इस बार मॉनसून की विदाई में देरी हो रही है।

मॉनसून की विदाई के दौरान और उसके बाद अचानक से गर्मी बढ़ जाती है। सामान्यत: इसे अक्टूबर हीट कहा जाता है। विशेषज्ञों के अनुसार, मुंबई में अक्टूबर हीट की आहट होने लगी है। दिन में चिलचिलाती धूप से लोगों का बाहर निकलना दूभर हो रहा है। क्षेत्रीय मौसम विभाग से लंबे समय तक जुड़े रहने वाले एक अधिकारी ने बताया कि इस बार मुंबई में अक्टूबर हीट का असर कम रह सकता है। मॉनसून की देरी से विदाई होने पर इस बार अक्टूबर की गर्मी लोगों को कम सता सकती है।

बता दें कि पिछले साल अक्टूबर के शुरुआत से ही अक्टूबर हीट का असर दिखने लगा था। अक्टूबर 2018 के पहले सप्ताह में ही तापमान 37 डिग्री सेल्सियस के आसपास पहुंच गया था। मंगलवार को उपनगर का अधिकतम तापमान 34 डिग्री सेल्सियस, जबकि शहर का 33.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पिछले एक सप्ताह में अधिकतम तापमान में तकरीबन 3 डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हुई है।