गुरुग्राम के ही एक नेता का भाई करता था गैंगस्टर कौशल की मदद

कौशल पैरोल से फरार होने के बाद कैसे कुछ सालों में इतना बड़ा गैंगस्टर बन गया और वह पांच साल किन-किन के संपर्क में रहा। इसका पूरा इतिहास गुरुग्राम पुलिस पूछ रही है। इधर कौशल ने पूछताछ में खुलासा किया है कि गुरुग्राम के एक नेता का भाई उससे निरंतर संपर्क में था और उसकी काफी मदद करता था।
यही कारण था कि कौशल हर तरह की खबर उस तक पहुंचाता था। कौशल ने बताया कि गुरुग्राम में वह उसका काफी खास था और हर समस्या में उसकी मदद करता था। हालांकि कौशल के खुलासे के बाद से पुलिस अब नेता के भाई की तलाश में जुट गई है।
रुपये भी भेजता था : कौशल ने पुलिस पूछताछ में खुलासा किया है कि नेता के भाई ने ही कौशल को हवाला से पैसे मंगाने का आइडिया दिया था और उसके बाद वह रुपये भेजता भी था। कौशल को कारोबारियों के नंबर, विवादित प्रॉपर्टी की जानकारी भी देता था। उन प्रॉपर्टी को सस्ते दामों में खरीद कर लाखों रुपये कमाए थे। वहीं कौशल ने यह भी खुलासा किया कि नेता के भाई की जान-पहचान पुलिस महकमे में भी काफी है।
पुलिस से मामले भी सुलझवाया : कई मामलों में पुलिस से बातचीत भी करवाई थी और कई मामलों को सुलझवाया भी था। हालांकि अभी इस खुलासें में कोई भी पुलिस के आलाअधिकारी बोलने से कतरा रहे हंै। ऐसे में अब देखना होगा कि पुलिस नेता के भाई को गिरफ्तार करती है या नहीं। कागजों में कौशल के खुलासे को लाती है या नहीं। हालांकि गुरुग्राम पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि कौशल के खुलासे की पुष्टि कर रहे हैं और उसके बाद ही कार्रवाई की जाएगी।
कौशल को देता था जानकारी : कौशल ने खुलासा किया है कि नेता का भाई कौशल को पुलिस की जानकारी देने के साथ-साथ उसके मामलों में मदद भी करवाता था। कौशल का वह खास था और वह रोजाना दिन में कई बार बात करते थे। फिलहाल पुलिस व अन्य टीम जांच में जुटी हैं।
इससे पहले पुलिस जांच में सामने आया था कि कौशल के पास पैसे कई बार हवाला से दिल्ली से थाईलैंड जाते थे। वहां से फिर दुबई पहुंचता था। इसके अलावा मलेशिया और सिंगापुर के जरिए भी रुपये उसके पास पहुंचाए जाते थे।