राज्य के सभी मेडिकल कॉलेजों में बढ़ेंगे हॉस्टल्स

मुंबई: जेजे सहित राज्य सरकार के सभी मेडिकल कॉलेजों में हॉस्टलों की संख्या बढ़ाई जाएगी। केंद्र सरकार की तरफ से स्नातक स्तर पर बढ़ाई गई सीटों के बाद सरकारी मेडिकल कॉलेजों में स्टूडेंट्स को हॉस्टल न मिलने के कारण उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में प्रशासन ने हॉस्टल की संख्या बढ़ाने का फैसला लिया है।

डायरेक्ट्रेट ऑफ मेडिकल एजूकेशन ऐंड रिसर्च (डीएमईआर) से मिली जानकारी के अनुसार, हॉस्टल बनाने और लेक्चर हॉल तथा लाइब्रेरियों का आकार बढ़ाने के लिए 350 करोड़ रुपये का प्रस्ताव जल्द ही सरकार के पास भेजा जाएगा। केंद्र सरकार द्वारा एमबीबीएस की सीटें बढ़ाने के फैसले के बाद राज्य के हर मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की करीब 50 सीटें बढ़ाई गई हैं। हालांकि कॉलेजों में लेक्चर हॉल और लाइब्रेरियों आदि की क्षमता बढ़े स्टूडेंट्स के हिसाब से कम है। वहीं हॉस्टल भी इतने स्टूडेंट्स के लिए नाकाफी हैं।

रेजिडेंट डॉक्टरों को नहीं मिल रहा हॉस्टल:\B हाल ही में जेजे मेडिकल कॉलेज में प्रथम वर्ष के रेजिडेंट डॉक्टरों का मुद्दा सामने आया था। स्टूडेंट्स का आरोप था कि हॉस्टल न मिलने के कारण उन्हें वॉर्ड के बगल में बने कमरे में सोना पड़ रहा था। मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रशासन ने इन्हें जल्द से जल्द हॉस्टल सुविधा देने की घोषणा की। इसके लिए जल्द ही कॉलेज में हॉस्टल का निर्माण किया जाएगा।

डीएमईआर के निदेशक डॉ. टीपी लहाने ने कहा कि हॉस्टल की अनुपलब्धता की शिकायतें हमें मिली हैं। सीटें बढ़ने के कारण यह समस्या हो रही है। समस्या के निवारण के लिए हम एक प्रस्ताव बनाकर जल्द ही राज्य सरकार को भेजेंगे। हम हर कॉलेज में कम से कम 100 अतिरिक्त स्टूडेंट्स के रहने की व्यवस्था के लिए हॉस्टल बनाएंगे। इसके अलावा लैक्चर हॉल में स्टूडेंट्स को बैठने में दिक्कत न हो, इसके लिए जरूरी पड़ने पर उसके आकार में बदलाव भी कर सकते हैं। सरकार से अनुमति मिलने के बाद तुरंत कंस्ट्रक्शन का काम शुरू किया जाएगा।