मेट्रो मार्ग को सरकार की मंजूरी

मुंबई : राज्य की देवेंद्र फड़नवीस सरकार ने मेट्रो के जाल का विस्तार करने के लिए मंगलवार को कैबिनेट बैठक में तीन नए मेट्रो मार्ग को मंजूरी प्रदान की है। इनमें गायमुख (ठाणे) से  शिवाजी चौक (मीरा रोड़), वडाला से छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) और कल्याण से तलोजा मार्ग शामिल हैं। मुंबई और ठाणे में फिलहाल मेट्रो के जाल का विस्तार  किया जा रहा है। इसके तहत मेट्रो के शुरु काम को गति दी जा रही है, साथ ही मेट्रो के संचालन के लिए मुंबई मेट्रो संचालन महामंडल स्थापित करने का निर्णय लिया गया।  मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक में मेट्रो 10 गायमुख से शिवाजी चौक, मेट्रो 11 वडाला से छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस तथा मेट्रो 12 कल्याण से तलोजा मार्ग को मंजूरी दी है।  मुख्यमंत्री ने डोंबिवली मार्ग से कल्याण मेट्रो का विस्तार तलोज तक करने की घोषणा पहले ही की थी। 

नए मेट्रो मार्ग 

मेट्रो 10 : गायमुख (ठाणे) से शिवाजी चौक (मीरा रोड)  

मार्ग की कुल लंबाई : 9.209

किलोमीटर (8.529 किमी एलिवेटेड, 0.68 किमी भूमिगत)

अनुमानित खर्च : 4 हजार 476 करोड़

स्टेशन : गायमुख, गायमुख रेतीबंदर,


वर्सोवा चार फाटा, काशीमीरा, शिवाजी चौक (मीरारोड)

परियोजना पूर्ण होने का वर्ष : 2022 तक

परियोजना का लाभ : परियोजना पूरी होने पर प्रारंभ में 14 लाख

32 हजार दैनिक यात्रियों के सीएसएमटी-वडाला-ठाणे कासारवडवली-गायमुख-शिवाजी चौक (मीरा रोड) का उपयोग करने की संभावना है। वर्ष 2031 तक यात्रियों की संख्या 21  लाख  62 हजार पहुंचने तक अनुमान है। तेजी से विकसित होने वाले ठाणे-घोडंबदर क्षेत्र को इसका फायदा मिलेगा। इस परियोजना से मुंबई, बोरीवली, मीरा-भायंदर, ठाणे शहर आपस में  जुड़ जाएंगे और लोगों को ट्रैफिंग जाम से निजात मिलेगी।

मेट्रो 11 : वडाला से सीएसएमटी

मार्ग की लंबाई : 12.774 किलोमीटर ( 4 किमी एलिवेटेड, 8.765 किमी भूमिगत)

अनुमानित खर्च : 8 हजार 739 करोड़ रुपए

स्टेशन : वडाला आरटीओ, गणेश नगर, बीपीटी हॉस्पिटल (उन्नत

स्थानक), शिवडी मेट्रो, हे बंदर, कोल बंदर, दारूखाना, वाडी बंदर, ब्लॉक टॉवर, कार्नाक बंदर, छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (भूमिगत स्टेशन)

परियोजना पूर्ण होने का वर्ष : 2026 तक

परियोजना का लाभ : इसका फायदा मुख्य रुप से मुंबई पोर्ट ट्रस्ट की तरफ से पुनर्विकसित होने वाले क्षेत्र को होगा। इस मार्ग पर घड्याल गोदी, मुंबई जनरल पोस्ट ऑफिस व मुंबई  महानगनपालिका जैसी ऐतिहासिक इमारत के नजदीक से भूमिगत मेट्रो गुजरेगी। वडाला से सीएसएमटी मेट्रो परियोजना के जरिए मेट्रो मार्ग 4 (वडाला से कासारवडवली) और 4 ए   (कासारवडवली से गायमुख) का दक्षिण दिशा में विस्तार होगा। वडाला से सीएसएमटी परियोजना से मुंबई पोर्ट ट्रस्ट के पुनर्विकसित होने वाले क्षेत्र को बड़ी राहत मिलेगी। साथ ही   सीएसएमटी से सीधे ठाणेघोडबंदर व मीरा-भायंदर को जोड़ा जाएगा।

इसके अलावा मेट्रो 3 के सीएसएमटी स्टेशन, हार्बर रेलवे के शिवडी स्टेशन और मोनो रेल के भक्ति पार्क स्टेशन से यात्रियों को मार्ग की अदला-बदली करना संभव होगा। परियोजना  पूरी होने पर रोजाना 11 लाख 60 हजार यात्रियों के इस मार्ग का उपयोग करने की संभावना है। 2031 तक यह संख्या 16 लाख 90 हजार पहुंचने का अनुमान है। 

मेट्रो 12 : कल्याण से तलोजा 

मार्ग की लंबाई : 20.75 किलोमीटर (ऐलिवेटेड)

अनुमानित खर्च : 5 हजार 865 करोड़ रुपए

स्टेशन : एपीएमसी कल्याण, गणेश नगर, पिसावली गांव, गोलवली, डोंबिवली एमआईडीसी, सागाव, सोनार पाडा, मानपाडा, हादुतणे, कोलगांव, निलजे गांव, वडावली, बाले, वकलण,   तुर्भे, पिसावे डेपो, पिसावे, तलोजा

परियोजना पूर्ण होने का वर्ष : 2024 तक

परियोजना का लाभ : कल्याण-डोंबिवली शहर की बढ़ती जनसंख्या और आसपास में होने वाले विकास, 27 गांवों का विकास प्रारुप, कल्याण ग्रोथ सेंटर, नैंना क्षेत्र, कल्याण-डोंबिवली शहर को नवी मुंबई से जोड़ने आदि की जरूरत देखते हुए यह परियोजना बनाई गई है। इससे कल्याण, तलोजा, नवी मुंबई, नवी मुंबई एयरपोर्ट क्षेत्र के नागरिकों को बड़ा फायदा  होगा। मेट्रो 5 ठाणेभिवंडी कल्याण, नवी मुंबई मेट्रो मार्ग और मेट्रो 12 कल्याण से तलोजा को आपस में जोड़ने का प्रस्ताव है।