सुपरमॉम के नाम पर ठगों ने लगाया लाखों का चूना

मुंबई : छोटे परदे पर चलने वाले सीरियल 'सुपरमॉम' के नाम पर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। इस प्रतियोगिता में देशभर की कई महिलाओं ने हिस्सा लिया था। इसका आयोजन पुणे की एक कंपनी ने किया था। आरोप है कि इस कंपनी के निदेशकों ने मुंबई, ठाणे, बेंगलुरु, गोवा, अहमदाबाद, चेन्नै, दिल्ली समेत देश के दूसरे हिस्सों में रहनेवाली करीब 44 महिलाओं को ठगी का शिकार बनाया है। इन 44 महिलाओं में ठाणे की एक महिला डॉक्टर समेत 9 महिलाएं मुंबई से हैं, जिन्होंने मुलंड, नवघर, पवई, अंधेरी और कांदिवली पुलिस स्टेशनों में आरोपी आयोजकों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। कंपनी द्वारा शो के जज कुणाल कपूर, सुधा चंद्रन और रुसलान मुमताज समेत कई हस्तियों का नाम दिखाया गया था। 

पीड़ित महिलाओं ने बताया कि प्रतियोगिता ऑनलाइन आयोजित हुई थी। इसके लिए कंपनी ने प्रतिभागी महिलाओं से फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और मेल के जरिए ऑनलाइन तरीके से ही उनकी प्रतिभा पर आधारित टैलेंटेड विडियो मंगाया था। इसी विडियो में से चुनी गईं 44 महिलाओं को कंपनी द्वारा रविवार को पुणे बुलाया गया था। 

सभी महिलाओं ने सुपरमॉम ऑफ इंडिया बनने की चाहत में 5 हजार रुपये से लेकर 50 हजार रुपये तक की एंट्री फीस भरी थी। इसके बाद महिलाओं को पुणे के हडपसर स्थित मैपल होटल में बुलाया गया, जहां 21 जलाई की रात को ग्रैंड फिनाले का आयोजन था। इससे पहले कि शो शुरू होता, अचानक आयोजनकर्ता गायब हो गए। प्रतिभागियों को जब शक हुआ तो वे आयोजकों को खोजने लगे। सिक्यॉरिटी गार्ड्स ने बताया कि शो कैंसल हो गया है। ठगे जाने का एहसास होने पर कुछ महिलाओं ने पुणे साइबर पुलिस और मुंबई पुलिस से शिकायत की। 

मुंबई पुलिस के मुताबिक, तुहिन दास और तनुश्री दास, यशस्करम असोसिएट उर्फ यशस्करम मल्टीवेंचर्स प्राइवेट लिमिटेड नामक कंपनी चलाते थे। इसी कंपनी ने शो को आयोजित किया था। यह कंपनी प्रतियोगिताओं के जरिए लाखों रुपये ठगने का काम करती है। इसकी जांच साइबर पुलिस की मदद से मुंबई पुलिस कर रही है। हालांकि, टीवी पर एक और सुपरमॉम नाम से प्रतियोगिता चल रही है, जिसे एक नामचीन कंपनी संचालित कर रही है। इस कंपनी ने मीडिया को बताया कि उनका इस फर्जी आयोजकों से कोई संबंध नहीं है।