एक दिन में 16 मौतें: आंकड़े से रेलवे की उड़ी नींद, सफाई में कहा- सिर्फ 12 मौतें

मुंबई : मुंबई उपनीय रेलवे पर रेलवे पुलिस के द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 18 जुलाई को 16 लोगों की मौत हुई। यह आंकड़ा इंटरनैशनल मीडिया तक पहुंचने के बाद अब पश्चिम रेलवे द्वारा आंकड़े जारी कर सफाई दी जा रही है। रेलवे की ओर से भेजे गए डेटा के अनुसार, 18 जुलाई को तो 12 लोगों की मौत हुई थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि 6 घटनाएं पहले हुई थीं। रेलवे ने अपनी सफाई में बताया कि 12 मौत में से केवल 4 लोगों की मौत ट्रेन से गिरने से हुई, जबकि 4 लोगों की मौत पटरी पार करने से हुई। 2 लोगों की मौत आत्महत्या के कारण हुई, जबकि 2 लोगों की मौत प्राकृतिक तरीके से हुई।
अब ट्रेन से कम लोग गिरते है आंकड़ों पर सफाई देने के लिए रेलवे ने पिछले वर्षों के आंकड़े भी जारी किए हैं। इनमें बताया गया है कि ट्रेन से गिरने वाले लोगों की संख्या में कमी आई है। मध्य रेलवे ने बताया कि जनवरी से जून 2018 के बीच ट्रेन से गिरकर 243 लोगों की मौत हुई थी, जबकि जनवरी से जून 2019 के बीच 208 लोगों की मौत हुई है। इसी तरह पश्चिम रेलवे ने बताया कि जनवरी से जून 2018 के बीच ट्रेन से गिरकर 130 लोगों की मौत हुई थी, जबकि जनवरी से जून 2019 के बीच 100 लोगों की मौत हुई है। मध्य रेलवे के अनुसार ट्रेन से गिरकर हो रही मौत में 14.4 प्रतिशत कमी दर्ज हुई है। पश्चिम रेलवे में यह कमी 23 प्रतिशत की है।
पटरी पार करने वालों पर लगा अंकुश!
मुंबई उपनगरीय रेलवे में सबसे ज्यादा मौत पटरी पार करने से होती है। जनवरी से जून 2018 तक मध्य रेलवे पर 527 लोगों की मौत पटरी पार करने से हुई थी, जबकि 2019 में इसी अवधी में यह आंकड़ा 461 रहा है। इसका मतलब है मध्य रेलवे पर पटरी पार करने वाले हादसों में 12.5 प्रतिशत की कमी आई है। इसी तरह पश्चिम रेलवे में जनवरी से जून 2018 के बीच 281 लोगों की मौत हुई थी, जो इस वर्ष इसी अवधी में 260 लोगों की मौत हुई है। यहां 7 प्रतिशत सुधार हुआ है।
रेलवे ने गिनाए काम
मध्य रेलवे पर पटरी पार करने वाले संवेदनशील क्षेत्रों में पिछले वर्ष से अब तक कुल 14 किमी की सुरक्षा दीवार बनाई गई है और 113 स्थानों को बंद किया गया है। इसी तरह से पश्चिम रेलवे ने 54 संवेदनशील क्षेत्रों की पहचान कर उसे बंद किया है। पिछले 2 सालों में 6.28 किमी दीवार बनाई है, जबकि 5 किमी पर काम जारी है। मध्य रेलवे ने जनवरी 2019 से अब तक पटरी पार करने वाले 10,477 लोगों पर मामला दर्ज कर 25,31,870 रुपये जुर्माना वसूला है। पटरी पार करने के चक्कर में 5 लोगों को जेल भी जाना पड़ा।