अलीबाग से आया है क्या पर रोक नहीं - कोर्ट

मुंबई : बॉम्बे हाई कोर्ट ने राज्यभर में प्रचलित कहावत 'अलीबाग से आया है क्या' पर रोक लगाने वाली दायर याचिका को खारिज कर दिया। हाई कोर्ट ने कहा कि समाज में सभी वर्ग और समुदाय के लोगों में ऐसे कहावतें विनोद के लिए प्रचलित हैं। उसे मन में नहीं लेना चाहिए। उसका आनंद लेना चाहिए। बता दें कि महाराष्ट्र में अलीबाग एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। कई लोग 'अलीबाग से आया है क्या' कहते हैं। उनकी नजर में इस कहावत का अभिप्राय 'तू मूर्ख है क्या' होता है। इसीलिए अलीबाग के निवासी राजेंद्र ठाकुर ने हाई कोर्ट में एक याचिका दायर इस कहावत पर रोक लगाने की मांग की। याचिका में कहा गया कि यह कहावत अलीबाग जैसे समृद्ध पर्यटन स्थल की बदनामी कारक है।
इस पर मुख्य न्यायमूर्ति प्रदीप नंदराजोग और न्यायमूर्ति नितिन जमादार की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई हुई। खंडपीठ ने कहा, 'समाज में संता-बंता, मराठी, गुजराती भाषी सहित विदेशों तक नागरिकों पर जोक्स बनाए जाते हैं और वह फिरते रहते हैं। उसे मन में नहीं लेकर जोक्स को जोक्स की तरह लेना चाहिए और उसका आनंद लेना चाहिए।' याचिकाकर्ता को यह सीख देते हुए हाई कोर्ट ने याचिका को खारिज कर दिया।