डोंगरी में बिल्डिंग हादसे के बाद ऐक्शन में बीएमसी

मुंबई : मुंबई के डोंगरी में बिल्डिंग गिरने के बाद से प्रशासनिक अमला ऐक्शन में है। बी वॉर्ड ऑफिसर विवेक राही को निलंबित करने के बाद कई अन्य अधिकारियों पर भी जल्द गाज गिर सकती है। बीएमसी ने अनधिकृत निर्माण को लेकर अधिकारियों की जांच शुरू कर दी है। डोंगरी और आसपास के इलाकों में अवैध निर्माण को लेकर आ रही शिकायतों के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है। इसमें कई अधिकारी लपेट में आ सकते हैं। प्रभाग समिति अध्यक्ष मकरंद नार्वेकर ने इससे पहले स्थायी समिति में अवैध निर्माण का मुद्दा उठाया था, जिसके बाद कमिश्नर ने कार्रवाई का आश्वासन दिया था। इसी संदर्भ में यह कार्रवाई हुई। विजलेंस विभाग की ओर से कई शिकायतों का पता लगाने के लिए निर्माण का जायजा लिया गया, जिसके बाद इसकी विस्तृत जांच की जरूरत महसूस हुई। एक अधिकारी ने कहा कि अनधिकृत निर्माण पर किसी भी प्रकार की सहूलियत न बरतने के उद्देश्य से कार्रवाई शुरू की गई है। 

गौरतलब है कि डोंगरी और आसपास के इलाकों में कुछ दिन में ही इमारत खड़ी कर दी जाती है। इन कमजोर इमारत को भू-माफिया कम दाम में लोगों को बेच देते हैं। बार-बार शिकायतें आने के बाद भी बीएमसी अवैध निर्माण को लेकर किसी बड़े अधिकारी पर कार्रवाई से बचती रही है लेकिन इस बार सीधे वॉर्ड ऑफिसर को जिम्मेदार ठहराया गया है। महीनों पहले सैंडहर्स्ट रोड के पास 11 मंजिल की अवैध निर्माण भी खासी चर्चा में रही थी। विधानसभा में चर्चा के बाद बीएमसी ने इसे तोड़ा था। 

उधर, मंगलवार को डोंगरी में हुए इमारत हादसे में घायल लोगों का इलाज जारी है। मिली जानकारी के अनुसार, जेजे अस्पताल में अब भी 6 घायल भर्ती हैं। अस्पताल से जुड़े एक डॉक्टर ने बताया कि भर्ती मरीजों में पांच की स्थिति सामान्य है, जबकि एक की कुछ नाजुक है। सभी मरीज खतरे से बाहर हैं। बता दें कि डोंगरी में चार मंजिला इमारत ढहने से अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है।